22 दिसंबर 2010

ईश्वर की सर्व व्यापकता .....1.1.



बचपन में मैंने पढ़ा था , कि ईश्वर सर्वव्यापक है , सर्व शक्तिमान है । बहुत बार विश्लेषण किया कि
अगर ईश्वर का स्वरूप ऐसा है तो फिर यह नजर क्योँ नहीं आता
, महसूस क्योँ नहीं होता , ईश्वर दिखाई क्योँ नहीं देता ....बहुत बार ऐसे प्रश्न मेरे जहन में उठते ...और में इनके समाधान की कोशिश करता ....परन्तु जब पता चला तो खुद पर हंसी आ गयी ...जिस ईश्वर को वेद "नेति - नेति" कहता है...मेरे लिए उसका पार पाना कितना सरल और कितना कठिन हो सकता है । अंदाजा लगाया जा सकता है । पर एक बात अब स्पष्ट रूप से कह सकता हूँ कि ईश्वर सर्वव्यापक है ..और इसे महसूस किया जा सकता है ..जाना जा सकता है :..वेद में ईश्वर कि सर्व व्यापकता के विषय में कहा गया है :-
   अखंड मंडलाकार व्यापतेन चराचरं..
अर्थात ईश्वर अखंड है ...पूरे ब्रह्मंड में समाया है और सारी सृष्टि इसमें समायी है । तो जाहिर सी बात है कि ईश्वर पूरी कायनात में समाया है ..श्रीमदभगवतगीता में भगवान श्रीकृष्ण अर्जुन को ईश्वर कि सर्व व्यापकता समझाते हैं तो अर्जुन ईश्वर के विराट स्वरूप को देख कर कहते हैं :-
                               त्वमादिदेव : पुरुष: पुराण स्त्वमस्य विश्वस्य परं निधानम ।
                              वेतासि वेद्यं च परम च धाम त्वया ततं विश्वमनन्तरूप । ।
अर्थात आप आदि देव , सनातन पुरुष तथा इस द्र्श्यमान जगत के परम आश्रय हैं । आप सब कुछ जानने वाले हैं और आप ही वह सब कुछ हैं जो जानने योग्य है । आप भौतिक गुणों से परे परम आश्रय हैं । हे अनंत रूप ! यह सम्पूर्ण द्रश्यमान जगत आपसे व्याप्त है ।
अर्जुन की भगवान श्रीकृष्ण के विराट स्वरूप को देख कर कही गयी इन बातों से स्पष्ट है कि ईश्वर सर्वव्यापक है । तथा इसे जान जा सकता है ...देखा जा सकता है । परन्तु भगवान श्रीकृष्ण अर्जुन को विराट स्वरूप दिखाने के पश्चात कहते हैं :-
   सुदुर्दशमिदं रूपं द्रष्ट वानसि यन्मम ।
              दवा अप्यस्य रूपस्य नित्यम दर्शनकाड.क्षिण:
हे अर्जुन ! तुम मेरे जिस रूप को इस समय देख रहे हो उसे देख पाना अत्यंत दुष्कर । आदि तक कि देवता भी इस अत्यंत प्रिय रूप को देखने कि ताक में रहते हैं ।
श्री कृष्ण के द्वारा अर्जुन को दिया गया यह ज्ञान ईश्वर के स्वरूप को हमारे सामने लाने में सहायक है ...सबसे पहले तो इस बात पर विचार करना होगा की इश्वर का स्वरूप कैसा है साकार यह निराकार ....और ईश्वर के किस स्वरूप के लिए देवता भी तरसते हैं . अगर ईश्वर स्रष्टि के कण कण में विद्यमान है तो निश्चित है की इसकी सत्ता निराकार है ...गोस्वामी तुलसीदास जी लिखते हैं कि :-
                                                                हरि व्याप्त सर्वत्र समाना
....हरि यानि ईश्वर, पुरे ब्रह्माण्ड में समाया है और सभी जगह एक जैसा ही है सामान रूप से विद्यमान है । कबीरदास जी भी कहते हैं कि :-
  पारब्रह्म के तेज का कैसा है उनमान
     कहते को शोभा नहीं देख्या ही परवान
यानि ईश्वर कि सत्ता इस सृष्टि के कण कण में है , और उसे जाना जा सकता है . गुरुवाणी में स्पस्ट उल्लेख है कि :-
                                आदि सचु , जुगादि सचु , है भी सचु , नानक होसी भी सचु
और आगे बताया गया है कि :-
        जमी जमां के बखि समस्त एक जोत है .
              न बाध है , न घाट है , न बाध घात होत है ।
जारी ............!

16 आपकी टिप्पणियाँ:

Ankur jain ने कहा…

log kahte hain ki ishvar najar nahi aat...lekin sach to ye hai ki sirf vahi najar aata hai jab kuchh samajh nahi aata...sundar prastuti!!!

केवल राम ने कहा…

आदरणीय अंकुर जैन जी
आपका बहुत बहुत आभार ....

राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ ने कहा…

पारब्रह्म के तेज का कैसा है उनमान
कहते को शोभा नहीं देख्या ही परवान
कबीर साहब ने यह बात ईश्वर के विषय
में नहीं कही भाई । और आपके लेख से भी
स्पष्ट नहीं कि आप कहना क्या चाहते हैं ?

केवल राम ने कहा…

आदरणीय राजीव जी
हो सकता है आपको ऐसा लगा हो , परन्तु आप दोहा पढ़ के देख लें क्या भाव निकलता है ..जहाँ तक लेख की बात रही यह इसका एक पार्ट है दुसरे में स्पष्ट हो जायेगा ...आपने टिप्पणी की आपका बहुत शुक्रगुजार हूँ ...ऐसे ही मार्गदर्शन की अपेक्षा है ...शुक्रिया

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

इतनी सुंदर पोस्ट ब्लाग जगत को देने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया मेरे प्यारे भाई !

मैं चाहता हूं कि आप इस ब्लाग को हिंदी के उन तमाम एग्रीगेटर्स पर जोड़ दीजिए जिनका ज़िक्र आज
blogbukhar.blogspot.com
पर किया गया है । इसके लिए आप हमारी वाणी पर जाकर हॉट लिस्ट में लेख 'इतने सारे गेट' पर चटका दें ।

आपको वहां मेरा लिखा हुआ यह कमेँट भी मिलेगा जिसमें मेरी नई पोस्ट का लिंक भी है :

लाभकारी जानकारी !
धन्यवाद !
आपके गेट अच्छे लगे ? लेकिन क्या आप जानते हैं कि गेट के अंदर कोई गाना क्यों गाता है ?
देखिए मेरे गेट के अन्दर
Image engineering

आने वाले समय में आप सभी शब्द प्रहरियों का जलवा बढ़ने वाला है क्योंकि एग्रीगेटर्स बढ़ते ही जा रहे हैं।

एस.एम.मासूम ने कहा…

केवल जी इतना उम्दा ब्लॉग कहां छिपा के रखा था? धन्यवाद् आपका

खबरों की दुनियाँ ने कहा…

अच्छी पोस्ट , नववर्ष की शुभकामनाएं । "खबरों की दुनियाँ"--------

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर संदेश दिया जी आप ने धन्यवाद

Harman ने कहा…

bahut hi umda post ..
Please visit my blog..

Lyrics Mantra
Ghost Matter
Download Free Music
Music Bol

sandhya ने कहा…

इतनी सुंदर पोस्ट ब्लाग जगत को देने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया.......

: केवल राम : ने कहा…

@>>> डॉ अनवर जमाल जी
@>>> एस.एम.मासूम जी
@>>>खबरों की दुनियाँ
@>>>राज भाटिय़ा जी
@>>> sandhya जी
आप सबका शुक्र गुजार हूँ ..जो आपने मेरे इस प्रयास को सराहा ...आप अपना मार्गदर्शन यूँ ही बनाये रखना ...ताकि यह प्रयास सफल हो पाए ...धन्यवाद

sagebob ने कहा…

केवल जी , आज आपका यह ब्लॉग देखा .सच पूछें तो मन खुश हो गया .
ईश्वर की व्याख्या जो आपने की है इसे अभी और आगे लेजाने की जरूरत है.कम से कम मेरी ज्ञान पिपासा तो शांत नहीं हुई है.आप ने इतना कम क्यों लिखा है? कम टिप्पणियों की परवाह मत करें . असली ज्ञान पथ तो यही है.उम्मीद है आप अगली पोस्ट जल्दी करेंगे.मैं तो आपके इस प्रयास में साथ हूँ .ढेरों शुभकामनायें.
P.S. "अन्धकार से प्रकाश की और" मेरी प्रिय पुस्तकों में से एक है.

KEWAL ने कहा…

आपकी व्याख्या बहुत अच्छी है ..इसे और आगे ले जाने की जरुरत है ..धन्यवाद

Rakesh Kumar ने कहा…

Iswar ke baare me aapka chintan aur
jiggyasa jankar ati prasannta mili.Blog jagat me dheere dheere pravesh kar aap jaise nirmal santo
se milan hoga,yeh mere liye sukhad aashcharaya ki baat hai.Kuch abhi samai kum mil paa raha hai.Lekin phir bhi samai samai per vicharo ka aadaan pradaan to hota hi rahega
aisi aasha hai.Aapki sunder prastuti ke liye bahut bahut aabhaar.

shikha varshney ने कहा…

बहुत ही खूबसूरत पोस्ट ,गहन बातें ..आत्मसात करनी चाहिए.

मुसाफिर क्या बेईमान ने कहा…

आज होली का पर्व है. ये त्यौहार क्या सिखाते है, बहुत कम इस पर सोचा जाता है. होली, दिवाली, ईद, क्रिसमस, ये कुछ ऐसे नाम है जब गले मिलन होता है सब कुछ भूल कर. यही सत्य है. मानवता को मानव भूल न जाये, इसलिए त्यौहार आता है और हमें बदल कर चला जाता है. प्रकृति का नियम देखिये जापान को दोबारा इतिहास याद करवाया और पूरे विश्व को बताया की परमाणु भी मेरा ही अंश है. इसे समझ लेंगे तो हमेशा याद रहेगा की मानव तुम और तुमारी शक्तियां सीमित है. इस विश्व की रचना और उसका संचालन कहीं और है. इतना याद रहेगा तो अपना घमन्ड, अपना गरूर, अपना ही अपना भूल कर सभी मानव बनेगें. यही ईश्वरीय सत्य है. -----आपका मुसाफिर क्या बेईमान